न्यायाधीश हेगड़े देश के राष्ट्रपति बन सकते थे

July 10, 2010

‘प्रतिबध्द’ विशेषण सामान्यतया सकारात्मक भाव में गिना जाता है। लेकिन मुझे स्मरण आता है साठ के दशक का अंतिम और सत्तर के दशक की शुरुआत की राजनीतिक चर्चाएं जब अचानक इस विशेषण का उस अर्थ में उपयोग में लिया जाने लगा जैसा पहले कभी नहीं हुआ था।

प्रतिबध्द प्रेस, प्रतिबध्द नौकरशाही और प्रतिबध्द न्यायपालिका जैसे इन विशेषणों को सुनकर सभी लोकतंत्रप्रेमियों को चिंता होने लगती थी।

विशेषकर यह तीनों विशेषण परेशानी में डालने वाले थे। वस्तुत, ऐसा माना जाता है कि प्रतिबध्द न्यायपालिका की अवधारणा का पालन करते हुए ही 1973 में प्रधानमंत्री श्रीमती गांधी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*