भाजपा : आशा का एक केन्द्र

June 2, 2012

राजनीतिज्ञ सामान्यतया पत्रकारों के आलोचक होते हैं। हालांकि ऐसा भी कभी-कभार होता है जब वे अपनी बिरादरी का उपहास उड़ाते हों और वह भी इसलिए नहीं कि वे ऐसी राजनीतिक आलोचनाओं का हिस्सा हैं जो सही नहीं हैं अपितु इसलिए कि यह जानते हुए भी कि यह आलोचना अधकचरी और सतही है, फिर भी रिपोर्ट को लेजी कॉपीमें जोड़ दिया जाता है।

 

swapan-dasguptaस्वप्न दासगुप्ता नई दिल्ली स्थित एक सम्मानित पत्रकार हैं। प्रत्येक रविवार अंग्रेजी दैनिक पायनियर में मुखपृष्ठ पर प्रकाशित होने वाला उनका लेख काफी चाव से पढ़ा जाता है। उनका नवीनतम स्तम्भ (27 मई, 2012) मीडिया पर एक गंभीर टिप्पणी है, जिसे वह गपशप लड़ाने वाली क्लास के प्रवचनों के सुर और चाल को आकारदेने का जिम्मेदार मानते हैं

 

मीडिया क्रिएट्स इट्स ओन रियल्टिजशीर्षक के तहत गत् रविवार को दासगुप्ता ने लिखा:

 

यह अपनी जगह सही है कि मीडिया लकीर का फकीर है, सतही फिर भी यह तथ्य अधिक नहीं चौंकाता कि पिछले सप्ताह भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की जो ब्रिगेड मुंबई में उतरी, उसका उद्देश्य पूर्व निष्कर्षों पर मुहर लगवाना मात्र था

 

स्वप्न ने अनुबोधक निष्कर्ष यूं लिखा है:                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                      

यह स्वयंसिद्ध है कि भाजपा के वरिष्ठ नेतृत्व में एकता नहीं है। वैसे भारत में कोई भी राष्ट्रीय पार्टी यहां तक कि माकपा में भी ऐसे शीर्ष कमांडर नहीं हैं जिनकी सोच समान हो। यह लोकतंत्र में सामान्य बात है और यह केवल भारत में ही होता है कि मीडिया उत्तर कोरिया मॉडल पर आधारित राजनीति को आदर्श के रूप में प्रस्तुत करता है।

                                                                                                                                                                                                                                                                

 (एक माक्र्सवादी समरूपता!)

 

हालांकि, जब इन दिनों पत्रकार यूपीए सरकार के घोटालों की श्रृंखला के बारे में हमला करते हैं लेकिन साथ ही भाजपा नेतृत्व वाले एनडीए द्वारा इस स्थिति का लाभ न उठा पाने पर खेद प्रकट करते हैं- तो एक पूर्व पत्रकार होने के नाते मैं महसूस करता हूं कि वे जनमत को सही ढंग से अभिव्यक्त कर रहे हैं।

 

कुछ सप्ताह पूर्व भाजपा की कोर कमेटी की एक बैठक में, जिसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनेक वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे, में मैंने सन् 1951 में डा0 श्यामा प्रसाद मुकर्जी द्वारा स्थापित जनसंघ से लेकर अपनी लगभग साठ वर्ष की राजनीतिक यात्रा का संस्मरण कराया। मैंने कहा कि इन साठ वर्षों के दौरान पार्टी की सफलताओं और असफलताओं का विचार करते समय मैं 1984 जैसे अवसादकारी वर्ष की कल्पना नहीं कर सकता, जब आठवीं लोकसभा के चुनावों में हमारी पार्टी द्वारा खड़े किए गए 229 उम्मीदवारों में से केवल हम दो ही जीत पाए – एक गुजरात से तो दूसरा आंध्र से। उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र सहित अन्य सभी प्रदेशों में हम एक भी सीट नहीं जीत पाए। यहां तक कि 1952 के पहले लोकसभाई चुनावों में हमारी पार्टी तीन स्थानों पर विजयी रही थी, 1984 से एक सीट ज्यादा!

 

सन् 1984 में मैं पार्टी अध्यक्ष था, अत: काफी दु:खी था। लेकिन मुझे स्मरण है कि कृष्णलाल शर्मा के नेतृत्व में पार्टी ने एक समिति गठित की जो चुनाव परिणामों का वस्तुनिष्ठता से विश्लेषण कर सके। समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि: हालांकि आतंकवादियों द्वारा श्रीमती गांधी की नृशंस हत्या और युवा राजीव गांधी के प्रति मजबूत सहानुभूति लहर के चलते पार्टी को मिली पराजय के बावजूद पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं तथा समर्थकों में कोई हताशा नहीं है।

 

इन दिनों पार्टी में उत्साह का मूडनहीं है। उत्तर प्रदेश के चुनावी नतीजे, मायावतीजी द्वारा भ्रष्टाचार के आरोपों में हटाए गए बसपा के मंत्रियों का पार्टी द्वारा स्वागत, झारखण्ड और कर्नाटक में पार्टी मामलों का संचालन – इन सभी घटनाओं ने भ्रष्टाचार के विरूध्द पार्टी के अभियान को कमजोर कर दिया है।

 

यह तथ्य है कि आज संसद में हमारे पास सन् 1984 की 2 सीटों की तुलना में बड़ी संख्या में सांसद हैं, दोनों सदनों में सुषमाजी और जेटलीजी के नेतृत्व में हमारी परफारमेंस उत्कृष्ट है, और पार्टी नौ राज्यों में सत्ता में है लेकिन तब भी की गई गलतियों की कोई क्षतिपूर्ति नहीं है। कोर कमेटी की बैठक में मैंने कहा कि यदि लोग आज यूपीए सरकार से गुस्सा हैं तो वे हमसे भी निराश हैं। मैंने कहा कि यह स्थिति आत्मनिरीक्षण् की मांग करती है।

 

टेलपीस (पश्च्य लेख)

 

दि टाइम्स ऑफ इण्डिया (30 मई, 2012) में एक समाचार प्रकाशित हुआ है:

 

     एट 97, ए के हंगल शूट्स फॉर टीवी 

 

रिपोर्ट के अनुसार:

डेढ़ वर्ष पूर्व अवतार कृष्ण हंगल उर्फ ए.के. हंगल जिन्होंने स्क्रीन पर लाखों लोगों को अपनी हृदयस्पर्शी भूमिका से रूलाया, सांता कु्रज ईस्ट के अपने निवास पर बीमारी और गरीबी से लड़ रहे थे।

 

लेकिन अब इस अभिनेता जोकि स्वतंत्रता के राष्ट्रीय आंदोलन के एक सक्रिय सिपाही भी थे, के लिए चीजें बदल रही है: 97 वर्षीय अभिनेता जिसने 200 से ज्यादा फिल्मों में काम किया है, फिर से एक नए शो मधुबाला के साथ छोटे पर्दे पर लौटने को तैयार हैं।

 

यह अभिनेता प्रसिध्द अभिनेत्री मधुबाला के जीवन पर कथित रूप से आधारित शो में भूमिका निभाएंगे। वास्तव में, हंगल ने कुछ दिन पूर्व इसकी शूटिंग की।

 

ak-hangalनिर्धारित दिन हंगल आए और लगभग एक घंटे तक शूटिंग की। यह कुछ ऐसा है जिसके संभव होने की हम कभी कल्पना भी नहीं कर सकते थे। उनमें अद्वितीय ऊर्जा है। यह हमारे लिए वरदान जैसा है। यहां तक कि उनके बेटे ने हमें बताया कि लगभग सात से आठ वर्षों के बाद शूटिंग करके वह बहुत खुश हैं: वह एक घंटा बिल्कुल जादुई था। मैं नहीं जानता था कि क्या वह इस उम्र में भी स्टेज पर उतर पाएंगे। लेकिन उन्होंने एक बार में ही शॉट दे दिए।  यह अद्भुत थायह कहना है शो के निर्माता सौरभ तिवारी का।

 

मुझे याद है कि साठ और सत्तर के दशक में अनेक पत्रकार जनसंघ की तुलना अक्सर फिल्म अभिनेता ए.के. हंगल से करते हुए कहते थे कि हंगल को श्रोता सदैव पसंद करते हैं लेकिन उनके बूते एक पूरी फिल्म नहीं चल सकती। वह एक प्रतिभाशाली चरित्र अभिनेता हैं। लेकिन वह एक स्टार नहीं हैं और न हीरो और न ही विलेन। भारतीय राजनीति में जनसंघ की स्थिति भी ऐसी ही है । इसके राष्ट्रवाद और प्रामाणिकता ने इसे सभी का शाबाशी का पात्र बनाया; लेकिन पार्टी कभी राजनीतिक परिदृश्य पर हावी नहीं हो पाएगी।

 

ऐसी टिप्पणियों को चुनौती देते हुए मैं दृढ़तापूर्वक कहता था कि एक दिन निश्चित ही वह स्थिति आएगी जब यह हालात बदलेंगे। वह अब सामने हैं। आज भाजपा सभी के लिए एक ऐसे आशा का केन्द्र बन गई है कि वह एक छोटी सी भी भूल करने का जोखिम नहीं उठा सकती जिसके फलस्वरूप लोगों को हताशा और निराशा हो।

 

लालकृष्ण आडवाणी

नई दिल्ली

31 मई, 2012