भ्रष्टाचार से कलुषित भारत के नाम की तुलना में : गुजरात का उदाहरण

January 31, 2011
print this post

प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस पर, राजपथ की परेड को देखने के बाद मैं अपने निवास पर भी झण्डावादन का छोटा कार्यक्रम आयोजित करता हूं। इसमें अधिकांश वे सुरक्षाकर्मी भाग लेते हैं जो वहां पर तैनात हैं: इस वर्ष मेरी सुपुत्री प्रतिभा ने उनके लिए एक घंटे के वृत चित्र वंदेमातरमका शो प्रदर्शित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*