Archive for March, 2009

गुजरात कैसे ‘जीवन्त’ (वॉयब्रेंट) बना

March 2, 2009
No

मकर संक्रांति (14 जनवरी) हमारे देश के विभिन्न भागों में अलग-अलग नामों से जानी जाती है। तमिलनाडु में यह त्योहार पोंगल के नाम से मनाया जाता है। असम में यह बीहू के नाम से गीत, नृत्य और हर्षोंल्लास के साथ मनाया जाता है। पंजाब और उत्तर भारत के कई भागों में यह त्योहार एक या दो दिन पहले मनाया जाता है। जिसे लोग लोहड़ी कहते हैं। ठंडी रात के समय लोग इकट्ठे होकर लकड़ियों के ढेर बनाकर उसे जलाते हैं, लोहड़ी के गीत गाते हैं, रेवड़ी, मूंगफली, पॉपकॉर्न और तिल की बनी मिठाईयां आपस में बांटते हैं। प्रति वर्ष मेरा परिवार लोहड़ी का त्योहार अपने आवास पर दोस्तों, कार्यालय के सहयोगियों और सुरक्षाकर्मियों के साथ बड़े आनन्द के साथ मनाता है। मकर संक्रांति मुझे गुजरात, जहां से मैं संसद में प्रतिनिधित्व करता हूं, के पतंग उत्सव की याद दिलाती है। इस दिन अहमदाबाद और राज्य के दूसरे शहरों और कस्बों … Continue reading गुजरात कैसे ‘जीवन्त’ (वॉयब्रेंट) बना

AddThis Social Bookmark Button

स्वामी रंगनाथानंद के श्रीचरणों में

March 2, 2009
No

मित्रो, मेरी उद्धाटन पोस्ट पर दी गई उत्साहजनक प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद। मैं सोच रहा था कि आज मैं आप लोगों के समक्ष कौन-से विचार रखूं क्योंकि आपके साथ बांटने के लिए मेरे पास बहुत से विचार हैं। 15वीं लोकसभा के लिए चुनाव काफी नजदीक आ गए हैं। स्वाभाविक है कि मेरा अधिकांश संवाद राजनैतिक और चुनावी होगा। फिर भी, मैं यह मानता हूं कि राजनीति हमारे राष्ट्रीय जीवन का अंतिम परिणाम नहीं है बल्कि राजनीति सार्वजनिक जीवन में हर कहीं तभी सार्थक तथा परिपूर्ण होती है जब वह भारत की आध्यात्मिक परम्परा में निहित मूल आदर्शों तथा उच्च मूल्यों द्वारा निर्देशित हो। ऐसा बहुत कुछ है जिसे राजनीतिज्ञ तथा अन्य व्यवसायों से जुड़े लोगों को भारत के आध्यात्मिक गुरूओं-प्राचीन तथा आधुनिक – से सीखना होगा। कुछ दिन पहले एक नई पुस्तक मेरी मेज पर रखी हुई थी-‘द मॉन्क विदआउट फ्रंटियर्स-रेमिनीसेंसिज ऑंफ स्वामी रंगनाथानन्द’। यह रामकृष्ण मिशन का नवीनतम प्रकाशन … Continue reading स्वामी रंगनाथानंद के श्रीचरणों में

AddThis Social Bookmark Button

सही सेक्यूलरिज्म को समझना

March 2, 2009
No

इस सप्ताह मेरे पुस्तकालय में एक और महत्वपूर्ण पुस्तक-अमित मेहरा द्वारा लिखित एक सुन्दर कॉफी टेबल बुक India : A timeless Celebration जुड़ गई है। मैं इस महत्वपूर्ण पुस्तक को प्रकाशित करने के लिए विदेश मंत्रालय के पब्लिक डिप्लोमेसी डिवीजन को बधाई देता हूं। अमित मेहरा एक उत्कृष्ट फोटोग्राफर हैं। वे कई विख्यात पत्र-पत्रिकाओं जैसे- टाइम, इंडिया टुडे, डेर स्पेजेल, फॉरच्यून, वॉग (vogue) आदि में योगदान देते रहे हैं। अमितदास गुप्ता की प्रस्तावना और जया रामनाथान द्वारा मेहरा के फोटोग्राफ्स के संदर्भ में लिखित टिप्पणियां पढ़ने योग्य हैं। समकालीन इंगलिश की लांगमैन डिक्शनरी के अनुसार – ”कॉफी टेबल बुक एक मंहगी और बड़ी पुस्तक होती है जिसमें आमतौर पर ढेर सारी तस्वीरें होती हैं और ऐसा माना जाता है कि यह पढ़ने के लिए नहीं बल्कि देखने के लिए होती हैं।” इसमें कोई शक नहीं है कि अमित मेहरा ने इस पुस्तक में जो तस्वीरें शामिल की हैं, वे संजोने … Continue reading सही सेक्यूलरिज्म को समझना

AddThis Social Bookmark Button