Archive for February, 2010

नेहरु की विदेशनीति की भयंकर भूल – चीन और पाकिस्तान

February 15, 2010
No

कांग्रेस पार्टी सदैव पण्डित नेहरू को भारत की विदेश नीति के अनुकरणीय कर्णधार के रूप में प्रस्तुत करती रही है। दूसरी ओर, हमारे राजनीतिक आन्दोलन के संस्थापक डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पाकिस्तान और चीन के सम्बन्ध में पण्डितजी की नीति को भयंकर भूल मानते रहे हैं। दु:ख की बात है कि 1962 में चीन के विश्वासघात से लगे सदमे ने नेहरू की जान ले ली। पाकिस्तान से निपटने में उनकी गलत नीति ने आतंकवाद और कश्मीर जैसे दो घाव बना दिए जो आज तक दु:खदायी बने हुए हैं। ‘न्यूजवीक इंटरनेशनल’ के सम्पादक फरीद जकरिया (जिनके स्वर्गीय पिता निष्ठावान कांग्रेसी थे) ने भारत की विदेश नीति के नेहरू द्वारा संचालन के बारे में कुछ महत्वपूर्ण टिप्पणियां की हैं। पेइंगुन द्वारा प्रकाशित ‘दि पोस्ट अमेरिकन वर्ल्ड’ में जकरिया कहते हैं कि आज भारत की मुख्य दुविधा यह है कि ”इसका समाज दुनिया का सामना करने के लिए खुला, उत्साह और आत्मविश्वास से … Continue reading नेहरु की विदेशनीति की भयंकर भूल – चीन और पाकिस्तान

AddThis Social Bookmark Button

Is it Washington’s nudge?

February 8, 2010
No

In the course of his 2008 presidential campaign, Barack Obama had remarked that “working with Pakistan and India to try to resolve the Kashmir crisis in a serious way” would be among the critical tasks of his administration if he was elected. Talking to Joe Klein of Time magazine, Obama elaborated : “Kashmir in particular is an interesting situation (that) is obviously a potential tar pit diplomatically. But for us to devote serious diplomatic resources to get a special envoy in there, to figure out a plausible approach, and essentially make the argument to the Indians, you guys are on the brink of being an economic superpower, why do you want to keep on messing with this? To make the argument to the Pakistanis, look at India and what they are doing, why do you want to keep on being bogged down with this particular (issue) at a time when … Continue reading Is it Washington’s nudge?

AddThis Social Bookmark Button

मेरी हम्पी यात्रा और सम्राट कृष्णदेव राय के राज्याभिषेक के ५०० वर्ष

February 3, 2010
No

विगत सप्ताह कर्नाटक के हम्पी में विजयनगर साम्राज्य के महान सम्राट कृष्णदेव राय के राज्याभिषेक की ५००वीं वर्षगांठ के शुभ अवसर पर एक भव्य समारोह आयोजित हुआ. इसके अत्यंत सफल आयोजन के लिए राज्य सरकार और मुख्यमंत्री श्री येदियुरप्पा को मेरी हार्दिक बधाई. प्रति वर्ष, इस अवसर पर, एक त्रि-दिवसीय उत्सव मनाया जाता है जिसमे हम्पी नगर के मध्य से एक भव्य शोभायात्रा निकाली जाती है. पर, दुर्भाग्यवश, इस महान साम्राज्य के गौरवशाली इतिहास के बारे में इस क्षेत्र से बाहर देश में बहुत कम लोग ही जानते हैं. गत वर्ष, पहली बार मुझे हम्पी जाने और इस शोभा यात्रा में सम्मिलित होने का अवसर मिला. यह शोभायात्रा नगर के मुख्य मंदिर – विरूपाक्ष मंदिर, से प्रारंभ होती है. गत वर्ष, जब मैं वहां अपने परिवार के साथ गया और यात्रा में सम्मिलित हुआ, तब वहां के मुख्य पुजारी ने हमारा स्वागत किया और मुझे बताया कि आने वाला वर्ष … Continue reading मेरी हम्पी यात्रा और सम्राट कृष्णदेव राय के राज्याभिषेक के ५०० वर्ष

AddThis Social Bookmark Button