Month: November 2010

सड़ांधभरे घोटालों का वर्ष

November 12, 2010

अंग्रेजी पत्रिका आऊटलुक (13 दिसम्बर, 2010) के नवीनतम अंक की आवरण कथा कांग्रेस क्राइसिस शीर्षक से प्रकाशित हुई है। शीर्षक के नीचे दो चित्र-एक सोनियाजी और दूसरा राहुल गांधी का है। मुखपृष्ठ के ऊपरी कोने पर बहुचर्चित लॉबिस्ट नीरा राडिया का फोटोग्राफ प्रकाशित किया गया है।  

AddThis Social Bookmark Button

चीनी खरगोश बनाम भारतीय कछुआ

November 9, 2010

इस वर्ष में मुझे दो बार परम पूज्य दलाई लामा के साथ कार्यक्रम में भाग लेने का सौभाग्य और विशेष अवसर मिला।   पहला अवसर अप्रैल में हरिद्वार में कुंभ मेले के दौरान मिला। उन दो अवसरों के बारे में मैं पहले ही लिख चुका हूं जहां हम दोनों साथ-साथ थे। पहला, हिन्दू कोष के लोकार्पण और दूसरा गंगा को साफ करने के लिए उत्तराखण्ड सरकार द्वारा शुरू किए गए स्पर्श गंगा अभियान की शुरूआत पर। गत् सप्ताह दिल्ली के निकट सूरजकुण्ड में तिब्बत स्पोर्ट ग्रुप्स, जिसने दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किए हैं, ने छठा अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया था।     इन तीन दिवसीय (5-7 नवम्बर) सम्मेलन में दलाई लामा ने भाग लिया। मुझे सम्मेलन का उद्धाटन करने के लिए कहा गया था, जो मैंने किया। सम्मेलन में दुनिया के 56 देशों से 200 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया।   यह ऐसा छठा सम्मेलन था। पिछला … Continue reading चीनी खरगोश बनाम भारतीय कछुआ

AddThis Social Bookmark Button

CHINA’S HARE Versus INDIA’S TORTOISE

November 7, 2010

Twice during this year have I had the good fortune and privilege of sharing the dias with His Holiness the Dalai Lama.   The first occasion was during the Kumbh Mela at Haridwar in April. I have already written about the two events where we were together- one the launching of the Hindu Encyclopedia and the second the Sparsh Ganga project launched by the Uttarakhand State Government to cleanse the Ganga. Last week at the Suraj Kund near Delhi, the Tibet Support Groups across the world organised their Sixth International Conference.                                                          This three-day Conference (November 5-7) was attended by the Dalai Lama. I was asked to inaugurate the Conference which I did. The Conference was attended by over 260 delegates drawn from 56 countries of the world.   This was the sixth such Conference. The last one was held at Brussels. But this was the first time there were … Continue reading CHINA’S HARE Versus INDIA’S TORTOISE

AddThis Social Bookmark Button