Archive for May, 2011

1989 : राजनीतिक इतिहास में एक निर्णायक मोड़

May 16, 2011
No

फ्रांसिस फुकुयामा एक देदीय्यमान राजनीतिक विचारक हैं लेकिन अनेक लोग उनसे तब सहमत नहीं हुए थे जब सन् 1992 में उन्होंने अपनी पुस्तक ‘दि ऍन्ड् ऑफ हिस्ट्री ऐण्ड दि लास्ट मैन‘ लिखी थी, जिसमें उन्होंने लिखा:   ”आज हम जो भी देख रहे हैं वह शीत युध्द की समाप्ति मात्र नहीं है या युध्दोत्तर इतिहास के एक विशेष काल का गुजर जाना नहीं है, अपितु इतिहास का अंत कुछ ऐसा है: यह मनुष्य के वैचारिक क्रमिक विकास और पश्चिम के उदारवादी लोकतंत्र का अंतिम बिंदु है जो कि मानव सरकार के अंतिम स्वरुप में हमारे सामने है।”   हमारे देश में विधानसभाई चुनावों के संदर्भ में, जिसके परिणाम गत् सप्ताह घोषित किए गए का सर्वाधिक महत्वपूर्ण निष्कर्ष है पश्चिम बंगाल से सीपीआई(एम) शासन की समाप्ति।   सीपीएम के नेतृत्व वाले वाम मोर्चे ने पश्चिम बंगाल में 1977 से सरकार का कामकाज संभाला था। किसी अन्य दल को यह सौभाग्य नहीं … Continue reading 1989 : राजनीतिक इतिहास में एक निर्णायक मोड़

AddThis Social Bookmark Button

CAN ANY ONE TRUST PAKISTAN HEREAFTER?

May 12, 2011
No

Without doubt, this month’s earth-shaking event has been Osama bin Laden’s execution in the Abbotabad compound where he had been living in hiding for some time past. Karan Thapar is an aggressive TV interviewer. He does a weekly feature DEVIL’S ADVOCATE on CNN-IBN. His last interview was with Gen. Musharraf in which he squeezed out of the General a reluctant statement that if he had been in charge of Pakistan today, he would have apologized to the people for what had happened. But try as much as Thapar would, he could not make Musharraf go even an iota beyond admitting that for Pakistan the event was an embarrassment simply because it was due to failure of intelligence.   For the rest of the world, however, some facts seem evident.   FACT 1 Osama bin Laden could not have been in this hide out without the knowledge and approval of both the … Continue reading CAN ANY ONE TRUST PAKISTAN HEREAFTER?

AddThis Social Bookmark Button

क्या इसके बाद पाकिस्तान पर कोई भरोसा करेगा?

May 12, 2011
No

निस्संदेह, इस महीने दुनिया को हिलाकर रख देने वाली घटना एबटाबाद के ठिकाने से ओसामा बिन लादेन की बेदखली वाली रही, जहां वह पिछले कुछ समय से रह रहा था। करण थापर आक्रमक अंदाज में टीवी इंटरव्यू करने वाले एंकर के रुप में जाने जाते हैं। सीएनएन-आईबीएन पर उनका साप्ताहिक कार्यक्रम ‘डेविल्स एडवोकेट‘ प्रसारित होता है। उनका पिछला इंटरव्यू जनरल मुशर्रफ के साथ था जिसमें उन्होंने जनरल से यह उगलवा लिया कि यदि वे वर्तमान में पाकिस्तान के शासक होते तो जो कुछ हुआ है उसके लिए वे माफी मांग लेते। लेकिन अपने स्वभाव के मुताबिक थापर बार-बार कुरदने पर भी मुशर्रफ से इससे तनिक ज्यादा यह स्वीकार नहीं करा पाए कि यह घटना पाकिस्तान के लिए गुप्तचर असफलता के चलते शर्मिन्दगी वाली है।   यद्यपि शेष दुनिया के लिए कुछ तथ्य साफ दृष्टव्य हैं:   तथ्य-1 ओसमा बिन लादेन इस स्थान पर पाक सेना प्रमुख कयानी और आइ.एस.आई. प्रमुख … Continue reading क्या इसके बाद पाकिस्तान पर कोई भरोसा करेगा?

AddThis Social Bookmark Button