Category: Blog in Hindi

कैसे राष्ट्रीय स्वयंसेंवक संघ से जुड़ने ने मेरे जीवन को सार्थकता प्रदान की

February 11, 2014

गत् सप्ताह 2 फरवरी को खुशवंत सिंहजी ने अपने अत्यन्त सक्रिय जीवन के निनयान्वें वर्ष पूरे किए। इस अवसर पर मैं, सुजान सिंह पार्क स्थित उनके आवास पर गया और ‘माई टेक‘ (My Take½ शीर्षक से प्रकाशित अपने ब्लॉगों के संग्रह की दूसरी पुस्तक उन्हें भेंट की, जिसका लोकार्पण सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत ने किया था। यह लोकार्पण कार्यक्रम फिक्की सभागार में हुआ जिसकी अध्यक्षता लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष

AddThis Social Bookmark Button

रफीक जकरिया ने तोड़ा भ्रम कि सरदार मुस्लिम विरोधी थे

December 26, 2013

मुझे यह देखकर प्रसन्नता हुई कि ताजा राजनीतिक इतिहास से संबन्धित मेरे ब्लॉगों से, सामान्य तौर पर कहा जाए तो मीडिया में भी बहस छिड़ी। इस वर्ष मेरे द्वारा लिखे गए देसी रियासतों के एकीकरण से सम्बन्धित ब्लॉगों जिनमें स्वाभाविक रुप से सरदार पटेल तथा वी.पी. मेनन का जिक्र था, से ज्यादा बहस छिड़ी। इनमें से कुछ ने सरदार के पण्डित नेहरु से मतभेदों की ओर सीधा ध्यान आकर्षित किया।

AddThis Social Bookmark Button

जोर-जबरदस्ती और घूसखोरी का सामना करने में जीवंत है भारतीय लोकतंत्र

December 18, 2013

वर्ष 2013 समाप्ति की ओर है। एक महत्वपूर्ण चुनावी लड़ाई अभी हाल ही में समाप्त हुई है, एक निर्णायक लड़ाई आने वाले वर्ष में लड़नी है। आगामी वर्ष की मध्यावधि समाप्त होने से पहले सोनिया गांधी-मनमोहन सिंह के शासन का भविष्य तय हो जाएगा। समाचारपत्रों की सुर्खियों ने विगत् विधानसभाई चुनावों को ‘कांग्रेस के सफाए‘ के रुप में वर्णित किया हैं। सण्डे टाइम्स (15 दिसम्बर, 2013) में एम.जे. अकबर के लेख का शीर्षक है। पोस्ट पोल लेसन्स फॉर दि विनरस् एण्ड वाइर्नस्

AddThis Social Bookmark Button