Category: Blog in Hindi

भारत को पोलियो मुक्त बनाने में डॉ0 हर्षवर्धन की पथप्रदर्शक भूमिका

November 30, 2013

मेरी पत्नी कमला और मेरे लिए यह महीना विशेष महत्व का है, क्योंकि हम दोनों का जन्मदिन नवम्बर में ही पड़ता है। कमला का 27 नवम्बर और मेरा 8 नवम्बर को। मेरी सुपुत्री प्रतिभा ने मुझे सुझाया कि परिवार को दोनों का जन्मदिन 24 नवम्बर (रविवार) को मित्रो को संगीत के कार्यक्रम के साथ-साथ दोपहर के भोजन पर बुलाकर मनाना चाहिये। इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले अधिकांश मित्रो ने निजी रूप से मुझे बताया कि समूचे कार्यक्रम हेतु प्रतिभा की योजना

AddThis Social Bookmark Button

बेहतरीन फोटोग्राफ्स: शिप्रा दास की अद्वितीय पुस्तक

November 22, 2013

अतीत में, मैं अनेक पुस्तक लोकार्पण कार्यक्रमों में जाता रहा हूं। परन्तु इस सप्ताह के सोमवार (18 नवम्बर, 2013) को जिस कार्यक्रम में गया वह वास्तव में कभी न भूलने वाला था। कार्यक्रम राष्ट्रपति भवन में, राष्ट्रपति महोदय की उपस्थिति में हुआ मगर पुस्तक का विमोचन उन्होंने नहीं किया! पुस्तक ‘दि लाइट विदइन‘ का औपचारिक लोकार्पण प्रज्ञा और प्राची नाम की दो छोटी बच्चियों द्वारा किया गया। दोनों जुड़वा बहनें हैं और वे जन्मांध हैं। वर्तमान में यह दोनों बारहवीं कक्षा में पढ़ती हैं। शिप्रा की पुस्तक में इन दोनों की अपने पिता के साथ पूर्व में खीची गई फोटो है।   प्राची और प्रज्ञा, जब वे मात्र 6 वर्षों की थी, दिल्ली के व्यवसायी अपने पिता के साथ   शीर्षक में जिस पुस्तक को मैंने ‘अद्वितीय‘ वर्णित किया है वह फोटोपत्रकार शिप्रा दास द्वारा खींचे गए फोटोग्राफ्स का संकलन है।   दशकों से मैं दिल्ली में रहकर राजनीति में … Continue reading बेहतरीन फोटोग्राफ्स: शिप्रा दास की अद्वितीय पुस्तक

AddThis Social Bookmark Button

हैदराबाद एक्शन को लेकर नेहरु-पटेल मतभेदों पर डा. के.एम. मुंशी का प्रत्यक्षदर्शी साक्ष्य

November 19, 2013

गत् वर्ष सरदार पटेल की जयन्ती की पूर्व संध्या यानी 30 अक्टूबर, 2012 को नई दिल्ली से प्रकाशित अंग्रेजी दैनिक पायनियर ने एक समाचार प्रकाशित किया जिसके अनुसार हैदराबाद में सेना भेजने के सरदार पटेल के फैसले के विरोध के फलस्वरुप प्रधानमंत्री नेहरु द्वारा उन पर की गई तीखी टिप्पणियों के चलते सरदार पटेल एक महत्वपूर्ण मंत्रिमंडलीय बैठक से उठकर चले गए।   तब से, विशेषकर मेरे द्वारा अपने एक ब्लॉग में पायनियर के इस समाचार का उपयोग करने के बाद से बड़ा विवाद खड़ा हो गया है। निस्संदेह यह समाचार एक आइएस अधिकारी श्री एम.के.के. नायर जिनकी मृत्यु 1987 में हुई, द्वारा लिखित एक मलयालम पुस्तक पर आधारित है। जैसाकि मैंने अपने एक ब्लॉग में उल्लेख किया था कि पुस्तक का अनुवाद अंग्रेजी में हो रहा है, परन्तु अभी तक यह प्रकाशित नहीं हुई है।   जो लोग इस मलयालम पुस्तक के कथ्य पर संदेह उठा रहे हैं और … Continue reading हैदराबाद एक्शन को लेकर नेहरु-पटेल मतभेदों पर डा. के.एम. मुंशी का प्रत्यक्षदर्शी साक्ष्य

AddThis Social Bookmark Button