Archive for March, 2009

जेल से लेकर फ्रीडम पार्क तक : मेरे जीवन के एक यंत्रणापूर्ण और रोचक अनुभव वाले स्थान की पुन: यात्रा

March 18, 2009
No

मैं तीन दिनों से लगातार यात्रा कर रहा हूं। ये स्थान क्रमश: गोरखपुर (उत्तर प्रदेश; 15 फरवरी), मदनपल्ली (आन्ध्र प्रदेश; 27 फरवरी) और बीदर (कर्नाटक; 28 फरवरी) हैं जहां मैंने 31वीं, 32वीं और 33वीं विजय संकल्प रैलियों को सम्बोधित किया। मेरी पार्टी ने मुझसे औपचारिक चुनाव अभियान से पहले एक बड़े सम्पर्क कार्यक्रम के रूप में पूरे देश की यात्रा करने के लिए कहा और फरवरी 2008 में जबलपुर में मेरी पहली विजय संकल्प रैली का आयोजन हुआ। मैंने व्यावहारिक तौर पर देश के प्रत्येक हिस्से-अरूणांचल प्रदेश में पासीघाट से लेकर केरल में कालीकट (कोझीकोड़े) और झारखंड में दुमका से लेकर महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के वाशिम तक इन रैलियों में हिस्सा लिया। पिछले सप्ताह ही मैं कई जगहों पर गया – गुजरात में गांधीनगर जो मेरा लोकसभा चुनाव क्षेत्र है; मुम्बई जहां मेरे पार्टी कार्यकर्ताओं ने लगभग 50,000 लोगों से एकत्र हुई 11.11 करोड़ रूपए की धनराशि पार्टी के … Continue reading जेल से लेकर फ्रीडम पार्क तक : मेरे जीवन के एक यंत्रणापूर्ण और रोचक अनुभव वाले स्थान की पुन: यात्रा

AddThis Social Bookmark Button

लाडली लक्ष्मी योजना : हम इसका राष्ट्रव्यापी कार्यान्वयन करेंगे और भारत की हर बच्ची को ”लखपति” बनायेंगे

March 18, 2009
No

हाल ही में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च) के अवसर पर मेरी टीम ने जिस रचनात्मक तरीके से वेबसाइट पर शुभकामना संदेश दिया था, उसे लोगों ने काफी सराहा। सामान्य तौर पर दिखाए जाने वाले बैनर के बदले तीन स्क्रीन बारी-बारी से दिखाए गए। पहला, ‘नारी तुम श्रध्दा हो’ दूसरा ‘नारी तुम संस्कार हो’ और तीसरा ‘नारी तुम शक्ति हो’। यह विचार प्रसिध्द हिन्दी कवि श्री जयशंकर प्रसाद की कविता से प्रेरित था- नारी! तुम केवल श्रध्दा हो, विश्वास-रजत-नग पल तल में, पीयूष श्रोत सी बहा करो जीवन की सुन्दर समतल में ‘श्रध्दा’, ‘संस्कार’ और ‘शक्ति’ ये तीन शब्द नारी और विशेषकर भारतीय नारी के गुणों की बखूबी व्याख्या करते हैं। लेकिन फिर भी भारतीय नारी के विकास से जुड़े आंकड़ों को देखकर मुझे बहुत तकलीफ होती है। • महिला के जीवन की संभावित औसत दर : 64.6 वर्ष • शिशु मृत्यु दर : प्रति 1000 जीवित शिशुओं में 57 … Continue reading लाडली लक्ष्मी योजना : हम इसका राष्ट्रव्यापी कार्यान्वयन करेंगे और भारत की हर बच्ची को ”लखपति” बनायेंगे

AddThis Social Bookmark Button

Ladli Laxmi Yojana: We’ll implement it nationwide and make every girl child a ‘Lakhpati’

March 16, 2009
No

My website received a lot of appreciation for the creative manner in which our team presented the message of greetings on March 8, International Women’s Day. The usual masthead of the website was replaced with three alternating screens, the first saying “Naari Tum Shraddha Ho” (Woman, you are Devotion); the second saying, “Naari Tum Samskaar Ho” (Woman, you are Culture); and the third saying, “Naari Tum Shakti Ho” (Woman you are Strength). The idea was inspired by the famous lines by renowned Hindi poet Jayashankar Prasad: Nari! Tum keval shraddha ho, Vishwas-rajat-nag-pal-tal mein, Piyush srot si baha karo, Jeevan ki sundar samtal mein. (Oh woman! you are devotion personified Under the silver mountain of faith, Flow you, like a river of ambrosia On this beautiful earth.) “Shraddha”, “samskaar” and “shakti” — these three words capture some of the greatest attributes of women in general, and Indian women in particular. Nevertheless, … Continue reading Ladli Laxmi Yojana: We’ll implement it nationwide and make every girl child a ‘Lakhpati’

AddThis Social Bookmark Button
Blowjob